उत्तराखंड आपदा में मृतकों के आश्रितों को सीएम रिलीफ फंड से मिलेगा दो-दो लाख: सीएम नीतीश

पटना। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि उत्तराखंड आपदा में मारे गए बिहार वासियों के आश्रितों को दो-दो लाख रुपये की मुआवजा राशि सीएम रिलीफ फंड से दी जाएगी।

सीएम नीतीश ने कहा कि दस बिहार वासियों की मृत्यु उत्तराखंड आपदा में हो चुकी है। इनमें से तीन लोगों का शव उनके पैतृक घर तक पहुंचाया जा चुका है। सात और लोगों को आज से कल तक उनके घर तक पहुंचाया जाएगा। उन्होंने कहा कि ये सभी मृतक पश्चिमी चंपारण जिले के वासी है। इन सभी मृतक के आश्रितों को सीएम रिलीफ फंड से दो लाख रुपये की सहायता राशि दी जाएगी।

राजद प्रमुख लालू यादव के आने की खबर के बारे में पूछे गए प्रश्न के उत्तर में नीतीश कुमार ने मुस्कुराते हुए कहा कि अरे छोड़िए इन बातों को कुछ नहीं रखा हुआ है। हालांकि, मौके पर मौजूद कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह ने कहा लालू प्रसाद के खराब स्वास्थ्य के कारण कोर्ट ने जमानत दी थी, ताकि वह अपने स्वास्थ्य को लेकर सुधार कर सकें लेकिन वह इसका फायदा राजनीति के लिए करने के लिए उठा रहे हैं। जाहिर है कि कानून इसे अपने रूप में देखेगा। कृषि मंत्री ने कहा कि लालू प्रसाद के बिहार आने से कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है।

इससे पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रबी अभियान की शुरुआत की । बिहार सरकार ने इस सीजन में कुल 45.10 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में बुवाई और 153.35 लाख मीट्रिक टन अनाज उत्पादन का लक्ष्य रखा है। 23 लाख हेक्टेयर में गेहूं की बुवाई होगी और 72 लाख मीट्रिक टन गेहूं उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है। कृषि विभाग प्रदेश में जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए 13 जिलों के किसानों को अनुदान देने की योजना बना रही है। इन किसानों को बीज आधी दर पर दी जाएगी।

बिहार के कृषि मंत्री अमरेंद्र प्रताप सिंह ने इस बारे में मीडिया को बताया कि जैविक कोरिडोर योजना में 13 जिलों के किसानों को 11,500 रुपये प्रति एकड़ अनुदान दिया जा रहा है। यह अनुदान अधिकतम ढाई एकड़ के लिए है। बिहार राज्य बीज एवं जैविक प्रमाणन एजेंसी द्वारा मुफ्त में जैविक प्रमाणन की व्यवस्था की गई है। वर्ष 2020-21 में इस एजेंसी के माध्यम से राज्य के 22 हजार किसानों द्वारा किए जा रहे जैविक खेती का जैविक प्रमाणीकरण के रूप में प्रथम वर्ष में कुल 20,059 एकड़ रकबा के लिए प्रमाण पत्र दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here