एस्ट्रोनॉमी ओलंपियाड में गोल्ड मेडल जीत धनंजय बना विश्व टॉपर

नई दिल्ली, नवंबर, 2019: भारत और फिटजी दोनो का सिर आज गर्व से ऊंचा हो गया है। भारत के प्रीमियर इंजीनियरिंग कोचिंग इंस्टीट्यूट, फिटजी के छात्र धनंजय रमन ने रोमानिया में आयोजित 24वें अंतर्राष्ट्रीय एस्ट्रोलॉजी ओलंपियाड (आईएओ) में गोल्ड मेडल जीत देश का नाम रौशन कर दिया है।

धनंजय रमन की इस उपलब्धि से यह साबित होता है कि भारत भी एस्ट्रोलॉजी में भविष्य बनाने का मजबूत स्थान रखता है।

भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले धनंजय रमन फिटजी द्वारका सेंटर में फोर-इयर क्लासरूम प्रोग्राम के छात्र हैं। वे फिटजी के उदय टू इयर क्लासरूम प्रोग्राम के छात्र भी रह चुके हैं, जो कक्षा 7वीं के छात्रों के लिए बनाया गया है।

इस बड़ी उपलब्धि के अलावा धनंजय 2017-18 में जेएसटीएसई और 2018 में आरएमओ भी क्वालीफाई कर चुके हैं। वर्तमान में कक्षा 11 के छात्र होने के साथ धनंजय एनटीएसई 2018-19 के स्कॉलर भी हैं। 2018 में दक्षिण अफ्रीका में आयोजित अंतराष्ट्रीय जूनियर साइंस ओलंपियाड में गोल्ड मेडल जीत धनंजय ने देश को पहले भी गौरवान्वित किया है।

फिटजी द्वारका के सेंटर हेड, श्री विनोद अग्रवाल ने बताया कि, “यह हमारे लिए गर्व का पल है। हमारे उत्साह के स्तर का अनुमान नहीं लगाया जा सकता है। इस तरह की प्रतिष्ठित अंतराष्ट्रीय प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीत कर धनंजय ने न केवल अपनी प्रतिभा की क्षमता का प्रमाण दिया है बल्कि यह भी साबित कर दिया कि हम अपने छात्रों की सफलता के लिए कड़ी महनत करते हैं और उन्हें सही मार्गदर्शन प्रदान करते हैं। फिटजी में हम अपने छात्रों को उनकी क्षमता को गहराई से मापने के लिए प्रोत्साहित करते हैं और उनके बौद्धिक कौशल का प्रदर्शन करने में उनकी मदद करते हैं। छात्रों की टॉप पॉजीशन दुनिया को इसका संकेत भी देती है कि भविष्य की एस्ट्रोनॉमी का सबसे प्रतिभाशाली दिमाग भारत में बसता है।”

यह अंतर्राष्ट्रीय एस्ट्रोलॉजी ओलंपियाड रोमानिया में 19 अक्टूबर से 27 अक्टूबर 2019 को आयोजित किया गया था। इस ओलंपियाड की शुरुआत जून 1996 में 14-18 वर्ष की आयु के हाइस्कूल के छात्रों के लिए एक वार्षिक एस्ट्रोनॉमी प्रतियोगिता के रूप में की गई थी। इस प्रतियोगिता में छात्रों को अपनी कल्पना, क्रिएटीविटी और स्वतंत्र सोच को थ्योरेटिकल और प्रेक्टिकल दोनों रूपों में दर्शाने की चुनौती दी जाती है।

फिटजी ग्रुप के निदेशक, श्री आर एल त्रिखा ने बताया कि, “कुछ ऐसे लोग हैं जो हमें यह विश्वास दिलाने की कोशिश करते रहते हैं कि भारत में एस्ट्रोनॉमी का कोई भविष्य नहीं है। यह उपलब्धि ऐसे लोगों की बात को पूरी तरह से गलत साबित करती है। हमारे पास दुनिया के कुछ सबसे उज्ज्वल दिमाग हैं, और अगर हम उन्हें अच्छी तरह से तैयार करते हैं और उन्हें अच्छा वातावरण प्रदान करते हैं तो वे चमत्कार कर सकते हैं। अंतराष्ट्रीय एस्ट्रोलॉजी ओलंपियाड वश्व की सबसे प्रतिष्ठित प्रतियोगिताओं में से एक है जिसमें दुनिया के सबसे यंग और टैलेंटेड छात्र भाग लेते हैं। यह फिटजी के लिए अत्यधिक गर्व की बात है कि हम उन छात्रों की प्रतिभा का सही मार्गदर्शन करने में सक्षम रहे जिन्होंने भारत को वैश्विक स्तर पर गौरवान्वित किया है।”

प्रतियोगिता हर साल सितंबर और दिसंबर के बीच ओलंपियाड के एस्ट्रोनॉमिकल सेंटरों में से किसी एक सेंटर में आयोजित की जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here