किसानों ने उठाई सस्ती बिजली की मांग तो सीडीओ ने कहा ये यूपी है दिल्ली नहीं

बागपत। इन दिनों महंगाई अपने चरम पर है। रोजमर्रा के सामान की कीमतों में इजाफा हो रहा है। जिसका सीधा असर किसानों पर पड़ रहा है। जिसके चलते बागपत जिला विकास भवन सभागार में किसान बैठक में जमकर हंगामा हुआ। इस दौरान भाकियू नेताओं और किसानों ने सस्ती बिजली की भी मांग उठाई। जिसके चलते किसानों ने सीडीओ रणजीत सिंह पर आरोप लगाया है कि उन्होंने दिल्ली में केजरीवाल के पास जाने के लिए कह दिया। जिसके बाद मामला तूल पकड़ गया। जिसके बाद सीडीओ पर भड़के किसानों ने बैठक का बहिष्कार कर हंगामा कर दिया।
ये है पूरा मामला-
बता दें कि विकास भवन सभागार में समस्या सुनने के लिए बुधवार को किसान बैठक हुई। जिसमें किसानों और भाकियू नेताओं ने बिजली सस्ती करने, चीनी मिलों द्वारा भरे जा रहे शपथ पत्र पर पचास रुपये लेने की जांच कराने, नहरों व रजबहों की सफाई कराने के बाद पानी छोड़ने, बकाया गन्ना मूल्य भुगतान कराने, किसानों का बकाया भुगतान नहीं करने तक कनेक्शन न काटने व आरसी जारी न करने आदि मांगों को सीडीओ के सामने रखा। इस दौरान किसानों ने कहा कि दिल्ली में बिजली काफी सस्ती है और यहां किसानों को लूटा जा रहा है। इसको लेकर भाकियू नेताओं व सीडीओ के बीच नोकझोंक होने लगी। आरोप है कि सीडीओ ने गुस्से में किसानों से कहा कि यह यूपी है दिल्ली नहीं। यदि बिजली सस्ती चाहिए तो दिल्ली में केजरीवाल के पास चले जाएं। इसके बाद भाकियू नेता भडक़ गए और बैठक का बहिष्कार कर दिया। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि इस तरह का व्यवहार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जिसके बाद उन्होंने आंदोलन की चेतावनी दी।
ये लोग हुए बैठक में शामिल-
वहीं सीडीओ रणजीत सिंह ने कहा कि भाकियू कार्यकर्ता जिस तरह के आरोप लगा रहे हैं, वे पूरी तरह से गलत हैं। उन्होंने किसी को दिल्ली जाने की बात नहीं कही है। इस बैठक में भाकियू के प्रदेश उपाध्यक्ष राजेंद्र सिंह, युवा जिलाध्यक्ष हिम्मत सिंह, उपेंद्र तोमर, इंद्रपाल, बिजेंद्र प्रधान, अशोक, संजीव, कालू, विजयपाल समेत अन्य बैठक में शामिल हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here