गोरखपुर : मुफ्त में शराब न देने पर हिस्ट्रीशीटर के भाई ने की एक वेटर की हत्या

गोरखपुर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का शहर अभी मनीष हत्याकांड से उबरने की कोशिश ही कर रहा है कि गुरुवार की रात एक और हत्या हो गई। आरोप है कि रामगढ़ताल क्षेत्र में रात में आये हिस्ट्रीशीटर के भाई और उसके गुर्गों ने एक वेटर को पीट-पीटकर मार डाला। कर्मचारी ने उन्हें मुफ्त में शराब देने से मना कर दिया था।

मध्य प्रदेश, रीवा के गढ़ थानाक्षेत्र स्थित पनगड़ी गांव का रहने वाला 24 वर्षीय मनीष प्रजापति तारामंडल के बुद्ध विहार स्थित माडल शाप की कैंटीन में काम करता था। गुरुवार की रात आठ बजे कोतवाली क्षेत्र के रहने वाले हिस्ट्रीशीटर का भाई माडल शाप में पहुंचा। आरोप है कि वह मुफ्त में शराब मांगने लगा। मनीष के मना करने पर आग बबूला हुए हिस्ट्रीशीटर के भाई और उसके गुर्गों ने उसकी हॉकी और डंडों से बुरी तरह पिटाई की। उसको छुड़ाने गए साथी को भी पीटा। हालात यह थी कि मनबढ़ों से बचने के लिए हर कर्मचारी काउंटर के पीछे, मेज के नीचे और शॉप में ही कहीं अन्य सुरक्षित स्थान पर छिपते रहे और खोज-खोजकर उनकी पिटाई की जाती रही। पिटाई का सिलसिला काफी देर तक चला।

इससे अधिक बुरी स्थिति क्या हो सकती थी कि हमलावरों के वहां से जाने के बाद इन घायल कर्मचारियों को पास स्थित एक हॉस्पिटल में ले जाया गया। उस दौरान न किसी ने कमर्चारियों को बचाना मुनासिब समझा और न ही किसी ने हो रही घटना से पुलिस को ही इत्तेला किया। इधर, पीटे गए कर्मचारियों की गंभीर हालत देख डॉक्टरों ने उन्हें मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया। रास्ते में ही एक कर्मचारी की मौत हो गई, जबकि एक कर्मचारी का इलाज चल रहा है। सरेआम हुई गुंडागर्दी के आरोपितों की पुलिस ने तलाश शुरू कर दी है।

इधर, सूचना के बाद मौके पर एडीजी अखिल कुमार और डीआईजी जे. रवीन्द्र गौड़, कैंट और रामगढ़ताल पुलिस पहुंच कर जायजा लिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here