जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ाः जागरूकता अभियान के साथ घर-घर बांटे जा रहे परिवार नियोजन के साधन

हापड़। जनसंख्या स्थिरता पखवाड़े को लेकर फ्रंटलाइन हेल्थ वर्कर्स दिन रात एक किए हुए हैं। आशा, आशा संगिनी और एएनएम लगातार गांव-गांव जाकर जागरूकता अभियान चलाने के साथ घर-घर परिवार नियोजन के साधनों का वितरण कर रही हैं। 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस के मौके पर शुरू किए गए इस अभियान में पहले चार दिनों के दौरान ही स्वास्थ्य कर्मी 15500 से अधिक कंडोम और गर्भनिरोधक गोलियों का वितरण कर चुके हैं। इनमें चिकित्सा केंद्रों और घर-घर जाकर वितरित की गई परिवार नियोजन सामग्री को शामिल किया गया है। 

परिवार नियोजन कार्यक्रम के नोडल अधिकारी अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. प्रवीण शर्मा ने बताया आशा, आशा संगिनी और एएनएम गांव-गांव जाकर जागरूकता अभियान चला रही हैं। इस दौरान वह परिवार नियोजन के लाभ और तरीकों के बारे में विस्तार से बता रही हैं, इसके साथ परिवार नियोजन के साधनों का निशुल्क वितरण भी कर रही हैं। उन्होंने बताया चारों ब्लॉकों में जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा के पहले चार दिन (11 से 14 जुलाई तक) में 12, 806 कंडोम वितरित कर चुकी हैं। इसके अलावा माला-एन गर्भ निरोधक गोलियों की कुल 1373 स्ट्रिप और छाया गर्भनिरोधक गोलियों की कुल 1028 स्ट्रिप वितरित की गई हैं। इसके अलावा चार दिनों के दौरान जनपद में आपात गर्भ निरोधक गोलियों (ईसीपी) की भी कुल 356 स्ट्रिप वितरित की जा चुकी हैं। आशा और एएनएम, गर्भनिरोधक गोलियों के सेवन करने का तरीका भी महिलाओं को विस्तार से बता रही हैं।

गर्भनिरोधक गोली माला-एन :

माला-एन गर्भनिरोधक गोली है। इसे साबुत निगल लें। महिलाएं इस गोली को अनचाहे गर्भ से बचने के लिए भोजन के साथ या बिना भोजन किए भी ले सकती हैं। लेकिन इतना ध्यान जरूर रखें कि रोजाना एक नियत समय पर ही गोली लें। जिला परिवार नियोजन विशेषज्ञ ने बताया यह गोली गर्भाशय में निषेचित अंडे को जमने से रोकती है, जिससे गर्भ ठहरने का डर नहीं रहता। माला-एन गोली महिलाओं को बेहतर स्वास्थ्य के लिए कई अन्य तरीकों से भी मदद करती है। इस गोली के सेवन से माहवारी नियमित और कर्म दर्दनाक होती है। यह अंडाशय और गर्भाशय के कैंसर और स्तन रोगों के खतरे को भी कम करती है 

गर्भनिरोधक गोली – छाया :

यह भी गर्भनिरोधक गोली है लेकिन इसके सेवन का तरीका थोड़ा अलग है। माहवारी शुरू होने वाले दिन पहली गोली खानी होती है। इसके बाद चौथे दिन दूसरी गोली लेनी होती है। यानि माहवारी यदि रविवार को शुरू हुई तो रविवार को और फिर बुधवार को गोली लेनी होगी। तीन माह तक गोली खाने के लिए यही दोनों दिन याद रखने ‌हैं। यानि तीन माह तक हर सप्ताह रविवार और बुधवार को छाया गर्भनिरोधक गोली लेने से अनचाहे गर्भ से बचा जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here