टोक्यो ओलंपिक: सेना के सूबेदार नीरज चोपड़ा ने पहला गोल्ड मैडल लाकर रचा इतिहास

नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक में देश के लिए पहला गोल्ड मैडल लाकर सेना के सूबेदार नीरज चोपड़ा ने इतिहास रच दिया है। जेवलिन थ्रो में गोल्ड जीतने के साथ ही 13 साल बाद एथलेटिक्स में कमाल हुआ है। पांच साल पहले जब भारतीय सेना ने ब्राजील के रियो डि जेनेरो शहर से मिशन ओलंपिक की शुरुआत की थी तो एथलेटिक्स में पदक की कोई उम्मीद नहीं थी लेकिन आज भारतीय सेना ने अपना वादा पूरा किया है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, सैन्य बलों के प्रमुख सीडीएस जनरल बिपिन रावत और सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने इस स्वर्णिम विजय पर सूबेदार नीरज चोपड़ा को बधाई दी है।

पानीपत, हरियाणा के रहने वाले सूबेदार नीरज चोपड़ा मौजूदा समय में 4 राजपूताना रायफल्स, पुणे में तैनात हैं। उन्होंने 2016 में सेना की ओर से जूनियर वर्ल्ड चैम्पियनशिप में भाग लिया और जेवलिन थ्रो में नया वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाकर वह देश के फलक पर चमकते सितारे के रूप में उभरे थे। इसके बाद 2018 में जकार्ता के एशियन गेम्स और ऑस्ट्रेलिया में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड मैडल हासिल किया। उन्हें 2018 में ही देश के सबसे प्रतिष्ठित अर्जुन पुरस्कार से नवाजा गया। भारतीय सेना के सूबेदार ने जनवरी, 2020 में साउथ अफ्रीका में 87.86 मीटर पर भाला फेंककर टोक्यो ओलंपिक के लिए अपना स्थान पक्का कर लिया था।

जेवेलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा ने भारत को आज एथलेटिक्स का पहला ओलम्पिक गोल्ड दिलाया है। उन्होंने भाला फेंक स्पर्धा के फाइनल्स में पहले प्रयास में 87.03 मीटर की दूरी तय की, जो गोल्ड के लिए काफी थी। दूसरे प्रयास में 87.58 मीटर पर भाला फेंककर प्रथम स्थान प्राप्त किया। इस तरह ओलंपिक में भारतीय सेना का नाम रोशन होने के साथ ही भारत की स्वर्णिम विजय हुई। उन्होंने ओलंपिक में भी एक सच्चे सैनिक की तरह प्रदर्शन किया। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने नीरज चोपड़ा को बधाई देते हुए ट्वीट में कहा, ओलंपिक में सूबेदार नीरज चोपड़ा की स्वर्णिम जीत भारतीय सेना के लिए गौरव की बात है। उन्होंने ओलंपिक में एक सच्चे सैनिक की तरह प्रदर्शन किया।

सैन्य बलों के प्रमुख सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने अपने संदेश में कहा कि नीरज चोपड़ा ने साबित कर दिया है कि जब चाह होती है तो राह भी होती है। उन्होंने कई अन्य ओलंपियनों की तरह सशस्त्र बलों और राष्ट्र को गौरवान्वित किया है जिन्होंने टोक्यो-2020 में इतिहास रचा है। हमें विश्वास है कि आने वाले वर्षों में आप और अधिक ऊंचाइयों तक पहुंचेंगे। आपकी उपलब्धि अन्य खिलाड़ियों को हमारे राष्ट्र के लिए बड़ा सम्मान और अधिक सम्मान दिलाने की आकांक्षा और सफल होने के लिए और प्रेरित करेगी। सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे और भारतीय सेना के सभी रैंकों ने सूबेदार नीरज चोपड़ा को भाला फेंक में देश का पहला स्वर्ण पदक जीतने पर बधाई दी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here