तारा अक्षर+ नवसाक्षर महिलाओं ने मनाया अंतर्राष्‍ट्रीय साक्षरता दिवस

74

सोसाइटी फॉर डेवलपमेंट अल्टरनेटिव्स तथा विलेज डेवलपमेंट सोसायटी संस्था के संयुक्त तत्वावधान में IKEA Foundation द्वारा समर्थित तारा अक्षर+ साक्षरता कार्यक्रम हरिद्वार जिले के भगवानपुर ब्लॉक के 30 गाँवों में महिला सशक्तिकरण के लिए चलाया जा रहा है | तारा अक्षर लैपटॉप पर आधारित साक्षरता कार्यक्रम है जिसके द्वारा हरिद्वार जिले में अब तक 6000 महिलाओं को साक्षर किया जा चुका है । कार्यक्रम का लक्ष्य 2020 तक 7000 महिलाओं को साक्षर करना है |

तारा अक्षर+ कार्यक्रम के अंतर्गत ग्राम बुग्गावाला मे अंतर्राष्‍ट्रीय साक्षरता दिवस बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया | इस अवसर पर आयोजित समारोह में रंगारंग कार्यक्रमों के साथ साथ तारा अक्षर की नवसाक्षर महिलाओं ने अपने अनुभव साझा करते हुए साक्षरता से उनके जीवन में होने वाले परिवर्तनों तथा फायदों के बारे में बताया | नुक्कड़ नाटक के माध्यम से साक्षरता के महत्व पर प्रकाश डाला गया | कार्यक्रम में 300 नवसाक्षर महिलाओं को साक्षरता प्रमाण पत्र भी वितरित किये गए |
इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मुख्य पर्यावरण अधिकारी अभिजीत पंवार जी ने नवसाक्षर महिलाओं को सम्बोधित करते हुए तारा अक्षर कार्यक्रम की प्रशंसा करते हुए सभी महिलाओं का साक्षर होने के लिए धन्यवाद किया और महिलाओं को तारा अक्षर मे पढ़ने के लिए प्रेरित किया |

विशिष्ट अतिथि डॉक्टर जिला संदर्भ व्यक्ति डॉ0 संतोष चमोला और सह खंड मुख्य विकास अधिकारी एपी वैष्णव ने कहा कि तारा अक्षर कार्यक्रम के द्वारा महिलाओ की साक्षरता दर को बढाने के लिए तारा अक्षर कार्यकम का धन्यवाद किया साथ ही साक्षर होने से महिलाओं के जीवन में बदलाव ओर साक्षरता से रोजगार स्तर को बढ़ने की बात बताइए ।
बुग्गावाला थाना के एस0 एच0 ओ0 लक्ष्मण सिंह चौहान ने महिलाओं को साइबर क्राइम के बारे में समझाया ।
तारा अक्षर के प्रोग्राम कोऑर्डिनेटर राजीव पांडेय/ ब्लॉक कोऑर्डिनेटर पारस सैनी ने अंतर्राष्‍ट्रीय साक्षरता दिवस की शुभकामनायें देते हुए मुख्य परियोजना प्रबन्धक श्री कर्नल एम. एस. आहलुवालिया का अंतर्राष्‍ट्रीय साक्षरता दिवस का सन्देश सभी को पढ़कर सुनाया |
विलेज डेवलपमेंट सोसायटी संस्था सचिव राज बहादुर सैनी ने अपने सम्बोधन में परियोजना से जुड़े सभी लोगों के कार्यों की प्रशंसा की और अंतर्राष्‍ट्रीय साक्षरता दिवस की शुभकामनायें देते हुए नव साक्षर महिलाओं से पठन-पाठन की गतिविधियों को निरंतर जारी रखने की गुजारिश की।
तारा अक्षर+ कार्यक्रम लैपटॉप पर आधारित साक्षरता कार्यक्रम है जो निरक्षर महिलाओं को 56 दिनों में हिन्दी पढ़ना-लिखना एवं गणित की मूलभूत जानकारी देता है। साक्षर हुई नवसाक्षर महिलाओं के लिए इसके पश्चात 6 माह के लिए ज्ञान चौपाली का संचालन किया जाता है जिसमें नवसाक्षर महिलाओं को साक्षरता के अभ्यास कराने के साथ ही विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से दैनिक जीवन में काम आने वाली महत्वपूर्ण जानकारियां प्रदान की जाती हैं | इसके पश्चात नवसाक्षर महिलाओं को स्वरोजगार प्रशिक्षण भी प्रदान कराया जाता है | तारा अक्षर के द्वारा अभी तक 2 लाख 30 हजार महिलाओं को साक्षर किया जा चुका है | वर्तमान में कार्यक्रम उत्तर प्रदेश के ललितपुर, झाँसी और भदोही तथा उत्तराखण्ड के हरिद्वार जिलों में चलाया जा रहा है |
कार्यक्रम के आयोजन में ब्लॉक कोऑर्डिनेटर पारस सैनी सीनियर सुपरवाइजर मुईद आलम संस्था प्रतिनिधि हिमांशु आदि का विशेष योगदान रहा | इस अवसर पर नवसाक्षर महिलाओं सहित समस्त प्रशिक्षक, तारा सहेली, फैसिलिटेटर, सुपरवाइजर उपस्थित रहे |

Contact for Advertisement—9358167005

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here