दिल्ली- मेरठ एक्सप्रेस वे तीसरी आंख की पैनी नजरों से नहीं बच सकेंगे वाहन चालक,यातायात के नियमों को तोड़ने पर घर पहुंचेगा चालान

गाजियाबाद। दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर तेज रफ्तार भरने और यातायात के नियमों की धज्ज्यिा उड़ाने वाले वाहन चालकों पर अंकुश की तैयारी कर ली गई है। अब वाहनों की स्पीड पर कोई ट्रैफिक पुलिस या समान्य पुलिस नजर नहीं रखेगी। अब दिल्ली—मेरठ एक्सप्रेस वे पर लगी तीसरी आंख की पैनी निगाहों से वाहन चालक बच नहीं सकेंगे। जरा से ट्रैफिक नियमों की अनदेखी या ओवर स्पीड पर तुरंत तीसरी आंख चालान काट देगी और यह वाहन चालक के घर पहुंच जाएगा। चालान भी हल्का फुल्का नहीं बल्कि हजारों में होगा।सीसीटीवी कैमरों के जरिये चालान कर वाहन स्वामियों के मोबाइल पर भेजने शुरू कर दिए जाएंगे। गाजियाबाद के सीमा क्षेत्र में दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर 187 और ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे पर 18 कैमरों से यातायात नियम तोड़ने वाले वाहन चालकों की निगरानी होगी।
ये होगी निर्धारित स्पीड,इससे अधिक पर होगा चालान:—
दिल्ली- मेरठ एक्सप्रेसवे पर कार के लिए निर्धारित रफ्तार 100 किलोमीटर प्रति घंटा की है। लेकिन वाहन चालक 150 की रफ्तार से वाहन दौड़ा रहे हैं। समय और ईंधन बचाने के लिए लोग उल्टी दिशा में भी वाहन चलाते हैं। एनएचएआई (नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया) ने दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे और ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे पर लगाए गए सीसीटीवी कैमरों की प्रतिदिन की फुटेज ट्रैफिक पुलिस को भेजनी शुरू कर दी है। अब आगामी रविवार के बाद इन सीसीटीवी कैमरों की फुटेज के आधार पर यातायात नियम तोड़ने वाले वाहनों का चालान करना शुरू कर दिया जाएगा।
राउड ओ क्लाक घूमकर निगरानी करेंगे कैमरे –
दिल्ली से लेकर मेरठ तक एक्सप्रेसवे का निर्माण करने वाली कंपनियों ने कुछ स्थानों पर अत्याधुनिक कैमरे लगाए हैं। यह कैमरे एक्सप्रेसवे से गुजरने वाले वाहनों की फुटेज कैद करने के लिए राउड ओ क्लाक घूम सकते हैं। अगर कोई वाहन चालक एक्सीडेंट करके या कोई वारदात करके भागता है तो एक ही कैमरे से करीब तीन किलोमीटर तक उसकी निगरानी की जा सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here