प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है भारत के पास अब 100 करोड़ कोरोना रोधी वैक्सीन का मजबूत कवच

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) नई दिल्ली के झज्जर परिसर स्थित राष्ट्रीय कैंसर संस्थान (एनसीआई) में इंफोसिस फाउंडेशन विश्राम सदन का उद्घाटन किया। इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने 100 करोड़ टीकाकरण का जिक्र करते हुए कहा कि आज का दिन इतिहास में दर्ज हो गया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ने अब से कुछ देर पहले 100 करोड़ वैक्सीन डोज का आंकड़ा पार कर लिया है। 100 साल में आई सबसे बड़ी महामारी का मुकाबला करने के लिए देश के पास अब 100 करोड़ वैक्सीन डोज का मजबूत सुरक्षा कवच है। उन्होंने कहा कि ये उपलब्धि भारत और उसके प्रत्येक नागरिक की है। मैं देश की वैक्सीन निर्माता कंपनियों, वैक्सीन ट्रांसपोर्टेशन में जुटे कर्मयोगियों, वैक्सीन लगाने में जुटे स्वास्थ्य क्षेत्र के प्रोफेशनल्स सभी का आभार व्यक्त करता हूं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सार्वजनिक-निजी क्षेत्र की भागीदारी चिकित्सा बुनियादी ढांचे और शिक्षा के विस्तार में मदद कर रही है। हर जिले में कम से कम एक मेडिकल कॉलेज बनाने के हमारे प्रयासों में निजी क्षेत्र की अहम भूमिका होगी। उन्होंने कहा कि आज एम्स झज्जर में कैंसर का इलाज कराने आने वाले मरीजों को एक बड़ी सहूलियत मिली है। नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट में बना ये विश्राम सदन, मरीजों और उनके रिश्तेदारों की चिंता कम करेगा। उन्होंने कहा कि इंफोसिस फाउंडेशन ने विश्राम सदन की इमारत बनवाई है तो वहीं इसके लिए जमीन देने और बिजली-पानी का खर्च एम्स झज्जर द्वारा उपलब्ध कराया गया है। उन्होंने इस सेवाकार्य के लिए एम्स प्रबंधन और सुधा मूर्ति की टीम का आभार व्यक्त किया।

मोदी ने कहा कि भारत के कॉरपोरेट और प्राइवेट सेक्टर के साथ ही सामाजिक संगठनों ने निरंतर देश की स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत करने में अपना योगदान दिया है। आयुष्मान भारत-पीएमजेएवाई भी इसका एक बेहतरीन उदाहरण है। उन्होंने कहा कि जब मरीज को आयुष्मान भारत योजना के तहत मुफ्त में इलाज मिलता है, तो उसकी सेवा होती है। ये सेवाभाव ही है, जिसकी वजह से हमारी सरकार ने कैंसर की लगभग 400 दवाओं की कीमतों को कम करने के लिए कदम उठाए।

इंफोसिस फाउंडेशन द्वारा कॉरपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व के एक हिस्से के रूप में 806 बिस्तरों वाले विश्राम सदन का निर्माण किया गया है। इसका उद्देश्य कैंसर रोगियों के साथ आने वाले उन सहयोगियों को वातानुकूलित आवास सुविधाएं प्रदान करना है, जिन्हें अकसर लंबी अवधि के लिए अस्पतालों में रहना पड़ता है। फाउंडेशन द्वारा लगभग 93 करोड़ रुपये की लागत से इसका निर्माण किया गया है। यह एनसीआई के अस्पताल और ओपीडी ब्लॉक के करीब स्थित है।

इस अवसर पर केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मंडाविया, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और इंफोसिस फाउंडेशन की अध्यक्ष सुधा मूर्ति भी मौजूद रहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here