स्वतंत्रदेव और राधा मोहन सिंह ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय को किया नमन

लखनऊ। जनता पार्टी के यूपी प्रभारी राधा मोहन सिंह प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने शनिवार को यहां भारतीय जनसंघ के संस्थापक एकात्म मानववाद एवं अंत्योदय के प्रणेता पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर दीनदयाल स्मृतिका चारबाग लखनऊ में पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि अर्पित की।

राधामोहन सिंह ने कहा कि दीनदयाल जी कहा करते थे कि आप समाज की चिंता करोगे तो समाज आपकी चिंता करेगा। समाज अपने पास कुछ नहीं रखता है। उन्होंने समाज की तुलना मां से करते हुए कहा था जब कोई बेटा अपनी कमाई मां को लाकर देता है तो मां स्वंय न खाकर बेटे को ही खिलाती है। इसी तरह से समाज अपने पास कुछ भी नहीं रखते हुए हमको देता है। व्यक्ति को समाज से जोड़ने के लिए इससे बेहतर उदाहरण क्या हो सकता है।

यूपी भाजपा प्रभारी ने कहा कि पंडित जी के पूरे चिंतन में गरीब उनके केंद्र बिंदु में था गांव,गरीब, किसान दलित, पीड़ित, शोषित और वंचित हमारे सारी योजनाओं के केंद्र में वही होना चाहिए और इन सबका कल्याण हमारे मन में होना चाहिए। तभी जाकर हम देश में परिवर्तन ला सकते हैं। पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने बिना भाषण दिये लाखों कार्यकर्ताओं का मार्गदर्शन करने का काम किया। सबसे पहले देश, उसके बाद पार्टी, अंत में मैं और सिद्धांतों की राजनीति इन सब की जो घुटी दीनदयाल ने जन संघ के कार्यकर्ताओं को पिलाई वह आज भी भाजपा के कार्यकर्ताओं को संस्कारित कर रही है।

राधामोहन सिंह ने कहा कि कार्यकर्ताओं के समर्पित योगदान से संघर्ष के दौर से निकलकर भाजपा आज सत्ता के शिखर पर है। आज पारदर्शिता सुशासन जन जवाबदेही में भाजपा नेतृत्व की केंद्र की मोदी सरकार और उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पूरी प्रतिबद्धता के साथ काम कर रही है। पंडित दीनदयाल उपाध्याय के दर्शन अर्थात समाज के अंतिम व्यक्ति जैसे गरीबों, किसानों, नौजवानों, माताओं, बहनों के जीवन में आशा की किरण बनकर मोदी और योगी काम कर रहे हैं। पंडित दीनदयाल के आदर्शो से प्रेरित योगी मोदी सरकार आज देश व प्रदेश को शक्तिशाली, स्वाभिमानी एवं समृद्ध साली बनाने की दिशा में तेजी से अग्रसर है। उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा समेत पार्टी के अन्य नेताओं ने भी पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें याद किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here