मुज़फ्फरनगर:1 महीने से ज्यादा की ट्रेवल हिस्ट्री पर भी बेवजह लोगों को क्यों क्वारंटाइन किया जा रहा है!

37

अभी तक मुज़फ्फरनगर में 7 कोरोना के मरीज मिले हैं, जिसके बाद जिले के पुलिस महकमें में हड़कंप मच गया. आज मुज़फ्फरनगर के कोतवाली क्षेत्र के सुजड़ू गांव में कई लोगों के घर पर पुलिस ने जाकर होम क्वारंटाइन का नोटिस चस्पा किया. सुजड़ू निवासी शमीम राणा पुत्र शफ़ायत राणा को भी होम क्वारंटाइन किया गया. इसके साथ ही उनकी सरकारी अस्पताल में कोविड 19 (covid 19) की जांच की गई.

दरअसल, सुजड़ू निवासी शमीम राणा 18 मार्च को दिल्ली रूटीन चेकअप के लिए गए थे. वह हार्ट और सुगर जैसी बीमारी से पीड़ित हैं. पिछले महीने 6 अप्रैल को पुलिस ने उनके घर पर जाकर जांच कराने के आदेश दिए थे,जिसके बाद उन्होंने सुजड़ू ग्राम प्रधान से कोविड 19 की जांच के लिए लिखवाया.उसी दिन उन्होंने ने जिला सरकार अस्पताल में स्वंय जाकर जांच कराई,लेकिन रिपोर्ट में कोरोनावायरस के कोई लक्षण नहीं मिले थे. इसके साथ ही उन्होंने अपने घर पर स्वयं को सेल्फ क्वारंटाइन कर लिया था.

कल 13 अप्रैल को पुलिस ने उनके घर पर होम क्वारंटाइन का नोटिस चस्पा कर दिया. आज भी पुलिस द्वारा उन्हें एम्बुलेंस में जांच के लिए गवर्नमेंट हॉस्पिटल ले जाया गया. जहां पर डॉक्टरों की देख- रेख में उनकी जांच की गई. उसके बाद तकरीबन 1 घन्टे बाद वह घर लौट आए, लेकिन फिर अचानक पुलिस ने मीनाक्षी चौक पर बुलाया।

इस मौके पर अपर जिलाधिकारी की मौजूदगी में मीनाक्षी चौक स्थित नवाब अजमत स्कूल में 14 दिनों के क्वारंटाइन कर दिया गया. वहीं दूसरी ओर समाजवादी पार्टी के नेता अबदुल्ला राणा पुत्र इरफान को होम क्वारंटाइन कर दिया गया. बताया जा रहा है कि सपा नेता अब्दुल्ला राणा 3 अप्रैल को गढ़मुक्तेश्वर में अपनी सुसराल से लौटे थे. आज पुलिस- प्रशासन ने उनको भी होम क्वारंटाइन कर दिया है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन(WHO) के मुताबिक, 14 दिनों के भीतर कोरोनावायरस के लक्षण दिखने शुरू हो जाते है, लेकिन ये परिभाषा तो कतई भी मुज़फ्फरनगर स्वास्थ्य कर्मियों के बीच फिट नहीं बैठती हैं. सुजड़ू निवासी शमीम की दिल्ली ट्रेवल हिस्ट्री को 1 महीना से ज्यादा बित गया. उसके बाद आनन- फानन में 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन कर दिया गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here